डायबिटीज ही नहीं बल्कि गठिया मरीजों के लिए भी बहुत खतरनाक है कोरोना वायरस ​​पिछले 8-9 महीने से

ईए खेल 2018 डायबिटीज ही नहीं बल्कि गठिया मरीजों के लिए भी बहुत खतरनाक है कोरोना व

arthritis and giloy डायबिटीज ही नहीं बल्कि गठिया मरीजों के लिए भी बहुत खतरनाक है कोरोना वायरस

​​पिछले 8-9 महीने से कोरोना की मार झेल रही दुनिया अब तक इससे उभर नहीं पाई है। आलम यह है कि दुनियाभर में हर दिन लाखों की संख्या में लोग कोरोना संक्रमित हो रहे हैं। हमारे देश के हालात भी बद से बत्तर होते दिख रहे हैं। रोज हजारों लोग वायरस की चपेट में आ रहे हैं, जिनमें से कुछ लोग सही हो रहे हैं तो कुछ लोग मौत के घाट भी उतर रहे हैं। अगर कोरोना से संक्रमित होने वाले लोगों की हिस्ट्री देखी जाए तो पता चलता है कि अधिकतर वही लोग इसका शिकार हो रहे हैं जो शारीरिक रूप से कमजोर हैं। यानि कि जिन लोगों को पहले से किडनी, लंग्स या पेट संबंधी कोई रोग है तो वह कोविड का शिकार जल्दी हो रहे हैं। हालांकि हेल्थ एक्सपर्ट कहते हैं कि कुछ बीमारियां ऐसी हैं जिनसे जूझ रहे लोग जरा सी लापरवाही या अनदेखी करने पर इस खतरनाक वायरस का शिकार हो सकते हैं। Also Read - महामारी के बाद चीन में खुल गए हैं स्कूलईए खेल 2018, बच्चों को कोविड-19 से सुरक्षित रखने के लिए किए जा रहे हैं ये उपाय  

इलेक्ट्रॉनिक खेल मछली पकड़ने का खेल 655px" /> Also Read - कोरोना के शिकार हुए नितिन गडकरी, ट्विटर पर लोगों से कही ये बातें

अभी तक लोगों को पता है कि जिन लोगों को डायबिटीज है उन्हें कोरोना होने पर ज्यादा खतरा है। यानि कि यदि किसी मधुमेह मरीज को कोरोना हो जाए तो उसके रिकवर होने की संभावना कम है। लेकिन ऐसा नहीं है कि ये संवेदनशील स्थिति सिर्फ शुगर के मरीजों के लिए है। डायबिटीज के साथ ही अर्थराइटिस के मरीजों को भी कोरोना वायरस का काफी खतरा है। अमूमन गठिया जैसा लोग उम्रदराज व्यक्तियों में देखा जाता है। ऐसे में बुजुर्गों को अपना खास रखने की जरूरत है नहीं तो स्थिति जानलेवा हो सकती है। ऐसा इसलिए क्योंकि शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता कम होने के चलते शरीर वायरस से लड़ नहीं पाता है। ऐसे में कमजोर इम्युन सिस्टम आपकी जान पर आफत ला सकता है। Also Read - भारत की डॉ. रेड्डीज़ लैब को मिलेगी कोविड-19 वैक्सीन 'स्पुतनिक' की 10 करोड़ खुराकें, कम्पनी देश में उपलब्ध कराएगी ये टीके

ईए खेल 2018 https://www.thehealthsite.com/wp-content/uploads/2020/07/arthritis-1-168x91.jpg 168w, https://www.thehealthsite.com/wp-content/uploads/2020/07/arthritis-1.jpg 675w" sizes="(max-width: 655px) 100vw, 655px" />

रुमेटीइड अर्थराइटिस के लिए है ज्यादा खतरा

रूमेटाइड अर्थराइटिस किसी भी उम्र-समूह में होने वाला एक ऑटोइम्यून डिसऑर्डर है। इसके लक्षण काफी हद तक ऑस्टियोअर्थराइटिस से भी मिलते हैं। रुमेटीइड अर्थराइटिस अक्सर तक होता है जब जोड़ों पर अधिक दबाव पड़ता है या वह कमजोर हो जाते हैं। इस तरह की अर्थराइटिस में इम्यून सिस्टम भी गड़बड़ा जाता है। ऐसे में यदि आपको भी यह समस्या है तो अपना खास ख्याल रखें। समय पर दवा लें, अच्छी और संतुलित डाइट लें और अपने लाइफस्टाइल को बेहतर करने पर जोर दें। यदि आपको किसी तरह की समस्या आती है तो डॉक्टर से संपर्क करने में परहेज न करें।

Published : September 4, 2020 9:57 am | Updated:September 4, 2020 9:58 am Read Disclaimer Comments - Join the Discussion स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा, कोविड-19 वैक्सीन आने तक सोशल डिस्टेंसिंग ही हमारी वैक्सीनस्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा, कोविड-19 वैक्सीन आने तक सोशल डिस्टेंसिंग ही हमारी वैक्सीन स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा, कोविड-19 वैक्सीन आने तक सोशल डिस्टेंसिंग ही हमारी वैक्सीन कोविड के मद्देनज़र दिल्ली में बंद रहेंगी कैंटीनें, जानें भोजन से कोरोना फैलने का डर है कितनाकोविड के मद्देनज़र दिल्ली में बंद रहेंगी कैंटीनें, जानें भोजन से कोरोना फैलने का डर है कितना कोविड के मद्देनज़र दिल्ली में बंद रहेंगी कैंटीनें, जानें भोजन से कोरोना फैलने का डर है कितना ,,
上一篇:ईए खेल 2018 America corona vaccine Hindi: अमेरिकी सीडीसी ने कहा, सभी राज्य कोविड-19 वैक्सीन के वितरण क    下一篇:ईए खेल 2018 कोविड-19 इंफेक्शन से सुरक्षा के लिए कैंटीन्स रहेंगी बंद , भोजन से कोरोन